Raincoat 

ट्रेन को पुलिस ने चारों तरफ से घेर रखा था क्योंकि बिना टिकट वालों की चेकिंग हो रही थी !! 
इतने में एक सरदार जी ट्रेन से कुदे और लगे भागने

उनको भागते देख सभी पुलिस वाले , मजिस्ट्रेट सब उसको पकडने दौडे 

देखते ही देखते सरदार जी के साथ कई लोग भागने लगे ,

चुंकि सभी पुलिस वालों और मजिस्ट्रेट का ध्यान सरदार जी की तरफ था इसलिए दुसरों के उपर किसी का ध्यान नहीं गया !!
 अंत में सरदार जी को पकडा गया लेकिन साथ दौडने वाले भाग निकले 

फिर पुलिस वालों ने सरदारजी से टिकट दिखाने को कहा

 

सरदार जी ने जेब से तुरंत टिकट निकाला और मजिस्ट्रेट के हाथों में रख दिया ! 
सभी हक्के बक्के ,
मजिस्ट्रेट ने चिल्लाकर पुछा जब तेरे पास टिकट थी तो तुम भागे क्यों ? 
सरदार जी मौन रहे हल्के से मुस्कराते रहे !! 
जब मजिस्ट्रेट ने ज्यादा जोर देकर पुछा तो सरदार जी ने मुंह खोला और कहा “हजारों सवालों से अच्छी है मेरी दौड, ना जाने कितने बेटिकटों की आबरू बच गई ” !!!!
मतलब सरदार जी तो ईमानदार रह गए लेकिन कई घोटाले बाज़ों को अपने ईमानदारी के सर्टिफिकेट से बचा ले गए।।  

                            

इस कहानी का रेन कोट पहनकर नहाने से कुछ लेना देना नहीं है।

माँ की इच्छा 

माँ की इच्छा 

_महीने बीत जाते हैं ,_

   _साल गुजर जाता है ,_

   _वृद्धाश्रम की सीढ़ियों पर ,_

   _मैं तेरी राह देखती हूँ।_
                   _आँचल भीग जाता है ,_

                   _मन खाली खाली रहता है ,_

                   _तू कभी नहीं आता ,_

                   _तेरा मनि आर्डर आता है।_
                             _इस बार पैसे न भेज ,_

                             _तू खुद आ जा ,_

                             _बेटा मुझे अपने साथ ,_

                         _अपने 🏡घर लेकर जा।_
 _तेरे पापा थे जब तक ,_

 _समय ठीक रहा कटते ,_

 _खुली आँखों से चले गए ,_

 _तुझे याद करते करते।_
               _अंत तक तुझको हर दिन ,_

               _बढ़िया बेटा कहते थे ,_

               _तेरे साहबपन का ,_

               _गुमान बहुत वो करते थे।_
                        _मेरे ह्रदय में अपनी फोटो ,_

                        _आकर तू देख जा ,_

                        _बेटा मुझे अपने साथ ,_

                        _अपने 🏡घर लेकर जा।_
_अकाल के समय ,_

 _जन्म तेरा हुआ था ,_

 _तेरे दूध के लिए ,_

 _हमने चाय पीना छोड़ा था।_
               _वर्षों तक एक कपडे को ,_

               _धो धो कर पहना हमने ,_

               _पापा ने चिथड़े पहने ,_

               _पर तुझे स्कूल भेजा हमने।_
                         _चाहे तो ये सारी बातें ,_

                         _आसानी से तू भूल जा ,_

                         _बेटा मुझे अपने साथ ,_

                         _अपने 🏡घर लेकर जा।_
 _घर के बर्तन मैं माँजूंगी ,_

 _झाडू पोछा मैं करूंगी ,_

  _खाना दोनों वक्त का ,_

  _सबके लिए बना दूँगी।_
            _नाती नातिन की देखभाल ,_

            _अच्छी तरह करूंगी मैं ,_

            _घबरा मत, उनकी दादी हूँ ,_

            _ऐंसा नहीं कहूँगी मैं।_
                        _तेरे 🏡घर की नौकरानी ,_

                        _ही समझ मुझे ले जा ,_

                        _बेटा मुझे अपने साथ ,_

                        _अपने 🏡घर लेकर जा।_
 _आँखें मेरी थक गईं ,_

 _प्राण अधर में अटका है ,_

 _तेरे बिना जीवन जीना ,_

 _अब मुश्किल लगता है।_
                 _कैसे मैं तुझे भुला दूँ ,_

                 _तुझसे तो मैं माँ हुई ,_

                 _बता ऐ मेरे कुलभूषण ,_

                 _अनाथ मैं कैसे हुई ?_
_अब आ जा तू.._

_एक बार तो माँ कह जा ,_

_हो सके तो जाते जाते_

 _वृद्धाश्रम गिराता जा।_

              _बेटा मुझे अपने साथ_

              _अपने 🏡घर लेकर जा_

सर्जिकल स्ट्राइक क्या है ? 

सर्जिकल स्ट्राइक क्या है ? 
सर्जिकल स्ट्राइक सेना द्वारा किया जानेवाला एक हमला होता है, लेकिंन यह युद्ध नहीं है। जैसा कि नाम से ही स्पष्ट है यह एक प्रकार की सर्जरी है जिसमे दुश्मन के इलाके में घुस कर उन्ही टारगेट पर हमला किया जाता है, और आतंकियों तथा घुसपैठ करने वालों को धर दबोचा जाता है । जहां से हमारे क्षेत्र में हमला या घुसपैठ की गयी है या बराबर होती रहती है । यह रिफ्लेक्स एक्शन ता हॉट परस्युत नहीं है । रिफ्लेक्स एक्शन तुरंत ही हमले की प्रतिक्रिया में जो जवाब दिया जाता है उसे कहते हैं । हॉट परस्यूट , हमलावर को खदेड़ते हुए उसका पीछा करके हमला करने या पकड़ने को कहते हैं । पर लगातार पीछा करने में अंतराष्ट्रीय सीमा या एलओसी जब आती है तो वही इस उद्देश्य आड़े भी आ जाती है । यही वह रेखा है जहां सेना को रुकना पड़ता है । वह अपनी तरफ से कोई एडवेंचर नहीं करती क्यों कि इसके परिणाम दूरगामी हो सकते हैं । अब यह निर्णय सरकार का होता है । सर्जिकल ऑप्स इराक युद्ध में भी अमेरिका ने बम गिरा कर किया था। अमेरिका ने कारपेट बम वरसाये थे । कारपेट बम यानी बमों के धमाके से ज़मीन पर कालीन बिछा देना । ओसामा का मारना भी एक प्रकार की सर्जिकल स्ट्राइक है । पर यह और पिन पॉइंटेड एक्शन है । इसे कमांडो ऑप्स भी कहा जाता है । 
इस हमले में सबसे अधिक ध्यान जहां से दर्द उठ रहा है ,इलाज़ भी वहीँ का होता है । इस कार्यवाही में कोई सैनिक टारगेट नहीं होता है और न ही कोई सिविल आबादी । अगर सैनिक टारगेट को चुना गया तो वह यह एक प्रकार से युद्ध ही है । इसी लिए सेना आतंकी आकाओं को सेना के कैंप या सेना के पहरे में रखती है । 2003 में बग़दाद पर अमेरिका ने जो सर्जिकल बमबारी हवाई जहाज से की गयी थी वह नाम की तो सर्जिकल थी पर उस से बहुत ही नुकसान हुआ था । यह कार्यवाही बहुत धैर्य , संयम और चपलता की अपेक्षा रखती है ।इस सर्जिकल स्ट्राइक के जरिए किसी खास इलाके में किसी खास ठिकाने पर हमला बोलकर उसे ध्वस्त किया जाता है। सेना द्वारा इसके जरिए बड़े पैमाने पर बर्बादी को रोका जाता है और खास तरह से अटैक को डिजायन किया जाता है। सेना की इस कार्रवाई में जहां ऑपरेशन को अंजाम दिया जाता है, नुकसान सिर्फ वहीं होता है। उसके आसपास सिविलियन इलाके को कोई हानि नहीं पहुंचती है। इससे पब्लिक प्लेस, आधारभूत संरचना, आवागमन के साधन या आम अवाम और उसके उपयोग के साधनों को कोई नुकसान नहीं पहुंचता है। 
इस स्ट्राइक के लिए पुख्ता सूचनाएं होना बहुत ज़रूरी होती है । उन सूचनाओं का एकत्रीकरण, फिर उनकी पुष्टि, फिर अभियान कैसे किया जाएगा और अभियान समाप्त कर के कैसे बिना अपना कोई नुक्सान किये कैसे सुरक्षित वापस लौटा जाएगा, इन सब विन्दुओं पर गहनता से विचार करने के बाद ही यह कार्यवाही की जाती हैं। सर्जिकल स्ट्राइक के दौरान किसी इंफ्रास्ट्रक्चर या सुविल आबादी को नुकसान न पहुंचे यह भी सुनिश्चित किया जाता है । समय सीमा भी बहुत कम रखी जाती है । यह कहा जा रहा है कि यह कार्यवाही बिलम्ब से की गयी है , सही नहीं है । निश्चित रुप से सारी तैयारी और सभी संभावनाओं की पड़ताल तथा सारा आगा पीछा सोच कर ही यह कार्यवाही की गयी होवी । यह तो कमांडर पर निर्भर करता है कि वह कब , कहाँ, कैसे, और कितना प्रहार करेगा और उसे किन लक्ष्यों को ध्वस्त करना है । यह सारी कार्यवाही बेहद गोपनीय होती है ।

शहाबुद्दीन

शहाबुद्दीन

शहाबुद्दीन बाहर  आया है, सिवान का काल वापस आया है

September 15, 2016
जिला सिवान, साल 1996, एक इंसान चंदा बाबु, गल्ला पट्टी बड़ा बाजार इलाके में एक किराना दुकान थी, वहीं बगल में चंदा बाबु का घर भी था, अच्छा-खासा बड़ा परिवार, पति-पत्नी, चार बेटे-दो बेटियां। काफी मेहनती आदमी थे चंदा बाबु, इसी मेहनत के दम पे उन्होंने बड़हरिया स्टैंड के पास एक कट्ठा, नौ धुर जमीन रामनाथ गौंड से रजिस्ट्री करायी। यहाँ छ दुकानदारों का कब्ज़ा था, चंदा बाबु के कहने पर पांच ने तो दुकान खाली कर दी मगर छठे शख्स नागेंद्र तिवारी ने खाली नहीं किया। चंदा बाबु ने जमीन पे दुकान खोली और गोदाम भी बनवा दिया, उद्धघाटन समारोह में इलाके के बाहुबली नेता शहाबुद्दीन और मंत्री अवध बिहारी चौधरी को भी बुला लिया, सब ठीक ही चल रहा था।

2004 में चंदा बाबु ने सोचा की दुकान का निर्माण नए तरीके से करवाना चाहिए लेकिन इसके लिए नागेंद्र का खाली करना जरुरी था। अब चंदा बाबु और नागेंद्र के बीच ठन गयी, नागेंद्र समझ गया कि दुकान तो उसके हाथ से गयी। उसने भी एक आखरी दावँ खेला, नकली कागजात बनवाये और दुकान मदन शर्मा को बेच दी, वैसे तो मदन पेशे से मैकेनिक था लेकिन उसके तालुकात शहर के दबंगों से थे।

चंदा बाबु को जब पूरी कहानी पता चली तो उन्होंने दुकान पर अपना ताला जड़ दिया, उसी रात उन्हें फ़ोन पे धमकी मिली की दुकान छोड़ दो नहीं तो अंजाम बुरा होगा। धमकी का असर भी हुआ और अगले ही दिन लगभग आधा दर्जन लोग उनके घर पहुँचे, गाली-गलौच की और चाभी छीनकर दुकान खोल दी। उन लोगों ने कहा कि अगर दुकान नहीं देना चाहते हो तो दो लाख दे दो हम कुछ नहीं करेंगे, ऐसा साहेब का आदेश है(साहेब यानि शहाबुद्दीन)। चंदा बाबु को लगा की साहेब उनकी दुकान का उद्धघाटन करने आये थे तो अब उनकी समस्या का समाधान भी करेंगे।

12अगस्त 2004, दिन था गुरुवार, चंदा बाबु सिवान जेल पहुंचे, साहेब से कहा कि वे दुकान किराये पे देंगे मगर रजिस्ट्री नहीं करेंगे और दो लाख भी नहीं देंगे इतना सुन के साहेब को गुस्सा आ गया और गुस्से में चंदा बाबु से कहा की सामने से हट जाओ। चंदा बाबु उदास होकर घर आ गए मगर तय किया की दो लाख नहीं देंगे, 14अगस्त को पता चला की उनके भाई की पत्नी को पटना में लड़का हुआ है, चंदा बाबु उसी दिन पटना के लिए निकल गए आगे क्या होने वाला है इस बात से बेखबर।

16 अगस्त की सुबह करीब 10 बजे आफताब, झब्बू मियां, राजकुमार साह, शेख असलम, मोनू उर्फ आरिफ हुसैन, मकसूद मियां समेत एक दर्जन लोग चंदा बाबु की दुकान पहुँचे, वहां उनके दो बेटे राजीव रौशन और सतीश राज मौजूद थे। उनलोगों ने पैसों की मांग की तो राजीव ने जवाब दिया की वे सिर्फ खर्चा-पानी दे सकता है। इतना सुनते ही वे लोग राजीव पे टूट पड़े और उसपे लात-घूंसों की बौछार कर दी, छोटा भाई सतीश अपने भाई को पीटते नहीं देख सका  और भागते हुए गोदाम के अंदर गया, वहां उसने शौचालय साफ़ करनेवाला एसिड जोकि उसके दुकान में बिकता था उठाया और मारपीट कर रहे लोगों पर फेंक दिया। राजीव पे भी कुछ छिंटे पड़े मगर वह उनके चंगुल से निकलकर बगलवाले मकान में छुप गया। बदमाशों के हत्थे चढ़ गया सतीश, उसे खींच कर उन्होंने बोलेरो में बैठा लिया और अपने साथ ले गए।

चंदा बाबु के बेटों ने अपने बचाव में शहाबुद्दीन से पंगा ले लिया था। एसिड के छींटे उन दबंगों पर पड़े थे जिनके नाम से पूरा सिवान काँपता था, बात जेल के सलाखों के पीछे कैद साहेब के कानों में भी पहुंची। साहेब की भृकुटि तन गयी, चेहरा गुस्से से लाल, ये तो सीधे-सीधे उनको चुनौती थी, आदेश हुआ, “तेजाब का बदला तेजाब से लिया जायेगा और ये सजा साहेब खुद देंगे।”

सतीश तो कब्जे में था ही, तलाश शुरू हुई राजीव की, नहीं मिला तो बड़हरिया गाँव में लूटपाट की और दुकानों में आग लगा दी फिर बदमाश पहुंचे गल्ला पट्टी, जहाँ चंदा बाबु की पुरानी दुकान थी। वहां पे चंदा बाबु का दूसरा लड़का गिरीश मौजूद था, दबंगों ने उसे ही जबरदस्ती बाइक पे बैठा लिया। इधर राजीव भी छुपते-छुपाते कचहरी पंहुचा, वहां कुछ लोगों से बात की और दक्षिण टोला के तरफ जा रहा था तभी रामराज रोड के पास वो भी पकड़ा गया। अब तीनों भाई शहाबुद्दीन के कब्जे में थे, उन्हें उसके गांव परतापुर ले जाया गया

बदले की आग में जल रहा शहाबुद्दीन सलाखों से निकल कर अपने घर पहुंचा और तीनों गुस्ताखों को उसके सामने पेश किया गया, शहाबुद्दीन और उनके लोगों ने गिरीश(22वर्ष) और सतीश(20वर्ष) को जिन्दा तेजाब से नहला दिया। वह दोनों जल कर राख हो गए और राजीव दिल पे पत्थर रख के इस खौफनाक मंजर को देखता रहा, आप उसकी दशा का अंदाजा भर लगा के सिहर उठेंगे, ठीक वैसे ही जैसे मेरे हाथ काँप रहे हैं इस कहानी को लिखते हुए। राजीव को समझ में आ गया कि वे लोग चंदा बाबु को पैसे देने के बहाने बुला के उन दोनों को भी मार डालेंगे, वह मौके की तलाश में था देर रात उसे मौका मिला और वह उनके चंगुल से भाग निकला।

इधर शहर में सुबह से शाम तक घटना की चर्चा होती रही। लोग खुल कर बोल तो नहीं पा रहे थे, लेकिन उनका दिल तड़प रहा था। सिवान के ही मुसाफिर चौधरी ने हिम्मत जुटाई और चौक-चौराहों पर खुलेआम बोल दिया की चंदा बाबु के बेटों को इतनी निर्ममता से नहीं मारना चाहिए था। यह बात साहेब के लोगों को पता चली, चंद मिनटों के अंदर ही उनकी गोली मार कर हत्या कर दी गयी। अब तो सबकी जुबान पर ताला लग गया।

चंदा बाबु का पूरा परिवार तितर-बितर हो गया, चंदा बाबु पटना में छुपे रहे और पत्नी कलावती देवी बाकि बच्चों को लेकर अपने गांव छपरा आ गईं । घटना के बाद कलावती देवी के आवेदन पर पहले अज्ञात लोगों पर अपहरण और हत्या का मामला दर्ज हुआ और बाद में शहाबुद्दीन का नाम डाला गया। आठ महीने तक परिवार के सदस्य आपस में मिल भी ना सके, फिर राजीव किसी तरह अपने घरवालों से मिला और पूरी कहानी सुनाई, कई महीने बाद चंदा बाबु ने बेटों का दाह संस्कार गायत्री परिवार के माध्यम से किया।

2011 में राजीव ने हिम्मत जुटाई और घटना के चश्मदीद गवाह के रूप में पेश हो गया, सुनवाई पे सुनवाई चलती रही। 19 जून 2014 को राजीव को फिर चश्मदीद के रूप में पेश होना था मगर 16जून, 2014 को डीएवी मोड़ के पास अपराधियों ने राजीव की गोली मार कर हत्या कर दी।

कहानी अच्छी थी ना? काश ये कहानी ही होती, लेकिन ये तोमैंने हकीकत बयां की है सीवान जिले की, यह बतलाने कीकोशिश की है कि ‘गैंग्स ऑफ़ वासेपुर‘ बहुतों के लिए एककल्ट सिनेमा होगा मगर सिवान के बाशिंदों के लिए तो उनकेजीवन जिया आईना था। उन्हें उस समय की याद जरूर आईहोगी जब बिहार में दो सरकारें काम करती थी, एक पटना कीसरकार और दूसरी सिवान  में शहाबुद्दीन

80 के दशक में शहाबुद्दीन पे पहली बार मुकदमा दर्ज हुआ था, इसके बाद तो मुकदमों की बाढ़ सी आ गयी। उसके हौसलों को हद से ज्यादा बढ़ते देख पुलिस ने उसे हिस्ट्रीशीटर घोषित कर दिया। राजनीतिक गलियारों में शहाबुद्दीन का उदय तब हुआ जब लालू यादव की छत्रछाया में उसने जनता दल की युवा इकाई में कदम रखा, 1990 में विधानसभा का टिकट मिला, जीत दर्ज की, फिर 1995 का चुनाव भी जीत गया। 1996 में शहाबुद्दीन को लोकसभा का टिकट मिला और उसने जीत का सिलसिला बरकरार रखा। 1997 में राजद के गठन के बाद लालू यादव की सरकार बन जाने से शहाबुद्दीन की ताकत और बढ़ गयी।

शहाबुद्दीन कानून से नहीं डरता था, वह खुद ही कानून बनाता था, सिवान जिले में बगैर उसकी इजाजत के पत्ता तक नहीं हिलता था। पुलिस अधिकारियों पर हाथ उठा देने में भी शहाबुद्दीन को कोई हिचक नहीं होती थी। एक बार तो एक अधिकारी संजीव कुमार और अन्य पुलिसवालों को शहाबुद्दीन और उसके आदमियों ने खूब पीटा, इस घटना से सकते में आया पुलिस प्रशासन तुरंत हरकत में आ गया। बिहार और उत्तर प्रदेश पुलिस की संयुक्त टुकड़ियों ने शहाबुद्दीन को गिरफ्तार करने के मकसद से उसके घर पर छापेमारी की। इस करवाई में 10पुलिसवाले मरे गये और “साहेब” फरार हो गए, मौके पे से 3 ऐके-47 भी बरामद हुई थी।

वक्त बदला, बिहार में बदलाव की दस्तक हुई, नितीश कुमार सत्ता में आये। राजद को बिहार की राजनीति से उखाड़ फेंका और शहाबुद्दीन पे भी शिकंजा कस गया। एक के बाद एक फाइलें खुलने लगी, बिहार पुलिस की स्पेशल टीम ने शहाबुद्दीन को दिल्ली से गिरफ्तार कर लिया। गिरफ्तारी का एक महत्वपूर्ण कारण यह भी था कि प्रतापपुर में उसके घर से छापेमारी के दौरान सेना के नाईट विज़न डिवाइस और पाकिस्तान में बने हुए हथियार भी मिले थे। “कहने वाले तो यह भी कहते हैं कि शहाबुद्दीन के पाकिस्तान में अच्छे संपर्क थे।” कोर्ट ने उसे उम्रकैद की सजा सुनाई और वर्ष 2009 में उसके चुनाव लड़ने पे भी रोक लगा दी। इसी तरह नितीश कुमार सिवान  के लोगों के लिए मसीहा का रूप धरकर आये और शहर के लोगों को उसके आतंक से मुक्ति दिलाई।

लेकिन वक्त ने एक बार फिर करवट ली, नीतीश कुमार की पार्टी जेडीयू और भाजपा का गठबंधन टूट गया, नीतीश ने लालू के साथ महागठबंधन बनाया और 2015 विधानसभा में शानदार वापसी भी की। वापसी असल में लालू यादव की हुई थी और जब लालू आये तो शहाबुद्दीन का भी बहार निकलना तय माना जा रहा था। वैसे तो ये गठबंधन होते ही शहाबुद्दीन के खौफ सिवान  में दोबारा आ गया था , राजीव की हत्या के साथ। शहाबुद्दीन जेल से अपना राज चला ही रहा था लेकिन शनिवार को वह आधिकारिक रूप से बाहर आ गया। उसके बाहर आते ही पटना से दिल्ली तक हलचल मच गई,चर्चाओं का बाजार गर्म हो गया।

शहाबुद्दीन ने भी बहार निकलते ही नीतीश को धत्ता बतलाते हुए लालू को अपना नेता माना और नितीश पे खूब निशाना साधा। जब मीडियावालों ने नीतीशजी से इस बाबत पूछा तो उन्होंने इन बातों को महत्वहीन करार दे दिया परन्तु कोई भी समझदार व्यक्ति नितीश कुमार के हावभाव से उनकी मज़बूरी समझ सकता है। कभी बिहार में लालू के जंगलराज को खुली चुनौती देने वाला शख्स आज इतना मजबूर हो चुका है कि कोई प्रतिकिर्या भी नहीं दे सकता मगर फिर भी मुझे नितीश कुमार से कोई संवेदना नहीं है। वह खुद की करनी का फल भुगत रहे हैं ।

आज शहाबुद्दीन बाहर नहीं आया है सिवान का काल वापसआया है।

यह बिहार में जंगलराज-2 की आधिकारिक घोषणा ही है, अब उन परिवारों पर पल-पल खतरा मंडरा रहा है  जिन्होंने शहाबुद्दीन पे केस दर्ज करवाया है।

नितीश जी आपको हर किसी को हिसाब देना होगा, उनजेडीयू कार्यकर्ताओं को आप भूल गए जो सिवान में मारे गए,उन लोगों की कहानियां भूल गए आप, उन निर्मम हत्याओं कोभूल गए?

क्या यही आपकी साफ़ छवि वाली राजनीति है? अगर ऐसा है तो फिर धिक्कार है आपको, नितीश जी आपने बिहारियों की उम्मीद को ताड़-ताड़ कर दिया है। वो उम्मीद जो वो आपसे लगाये बैठे थे की आप हैं तो फिर बिहार तरक्की के रास्ते पे ही चलेगा। शायद आपको वोट देने वाले आपका असली चेहरा नहीं देख पाए, वो चेहरा जो कुर्सी के लिए अपना ईमान बेच देता है, जी हां आपने अपना ईमान बेच दिया है और अब आपके साथ-साथ पूरे बिहार को भुगतना होगा।

Facebook

Instagram

img_1419