Featured

Jamia Millia Islamia

Double and multi-faceted character of Jamia University (JMI)

These days, especially teachers, students and intellectuals of Jamia University (JMI) don’t get tired of calling for the constitution on the issue of CAA and NRC. On the issue of secularism and inclusiveness, the present central government and the law system are questioned. But an observation of the double character prevailing in this university will show how the Dalits and the tribal community are treated as bad as the displaced and the self-proclaimed intellectuals take icy dead silence.

Jamia Millia Islamia is a central university formed by the Act of the Indian Constitution. According to the 7th Article of the Jamia Act 1988,

“In Jamia, there will be reservation for Scheduled Caste (SC), Tribe (ST) Dalits, Divyang people and women as per Government of India rules.”

From 1988 to 2011 it was also followed in admissions and recruitment of jobs.
However, in 2011, the then Manmohan Singh government of the Congress formed a new National Minority Educational Institution Commission (NCMEI) separately to persuade the minorities to vote, with a decision that made the Jamia University (JMI) a Muslim minority. Made the university and abolished the reservation of Scheduled Caste (SC), Tribe (ST) and Dalit students in Jamia University (JMI) forever. Indian This decision is still under consideration in Delhi High Court.

But today the teachers’ union and university administration of this university, which has been calling for the Constitution, abruptly removed the reservation based on the Government of India without losing a moment and gave 50% Muslim reservation in admission with immediate effect. Despite this, the minority decision has been challenged in the Delhi High Court and is under consideration, eliminating the reservation for Dalit students altogether in the admission process.

The extent was reached when the Jamia administration in 2014 abolished the reservation of Dalits provided by the Government of India from both their jobs and promotions.
Some point which shows the double attitude of the Jamia administration and the university.

Reservations were given to Dalits at Jamia University (JMI) from the year 1988 to 2011 on the basis of the Government of India… whereas Scheduled Castes (SC), Tribes (ST) and Dalit Reservation since 2011 have not adopted the inclusive approach. Abolished.

Not only at Jamia University (JMI),
Those Dalits who have got jobs on the basis of reservation in teaching and other posts before 2011 also adopt a partisan attitude, like they do not get any preference in the allocation of houses.It is worth noting that…

The Ministry of Human Resource Development (MHRD) still considers Jamia University (JMI) a central university, not a minority. The Ministry believes that the case of religious minority is under consideration in the High Court.Till date Jamia University (JMI) has not even been notified in the Government of India gadgets of minority universities.

At the same time there is no amendment in the Jamia Act, 1988 … Therefore, reservation of Scheduled Castes (SC), Tribes (ST) and Dalits given in para 7 is bound to be done according to the Government of India, which is Jamia University (JMI) administration deliberately refuses to give.

For any university or institute to be a minority, there are 2 essential things – the first is made by minorities and the second should be run by the minority whereas the Jamia University (JMI) is created by the Constitution of India and is also governed by the Government of India ( JMI Act 1988) and is fully funded by the Government of India.

So tell me, did the Jamia University (JMI) and its teachers, students and intellectuals who are sympathetic to it, not cheat the Scheduled Castes (SC), Tribes (ST) and Dalits and opportunism is not being used under politics? If these people really care about Dalits, then why don’t they give Dalits rights? Why do Jamia University (JMI) and its teachers, students and intellectuals with their sympathies do not give Dalits their reservation under the constitution created by Dr. Babasaheb Ambedkar, under the constitution of Babasaheb Ambedkar? Why Congress, SP, Mayawati, Owaisi, Lalu Yadav, Kanhaiya Kumar, Left parties who are advocating Dalit-Muslim unity today, do not raise voice on the right to education to the oppressed, deprived, exploited Dalits and backward in Jamia University (JMI)? Why don’t these people take to the road to give reservation to Dalits and backward in Jamia University (JMI) as per the constitution made by Dr. Ambedkar. Are these people not insulting the Dalit society and identity by depriving the Dalits and backward of education in world-renowned government universities like Jamia University (JMI)? Are Muslims not exploiting them politically by not giving reservation to Dalits and backward in Jamia University (JMI)? The Muslim who uses Dalits and backward for his political agenda, why does the Muslim step back from giving reservation to Dalits and backward in Jamia University (JMI)? Do not you think that Muslims are using Dalits and backward?

It is a matter of thinking and deciding…

It's our duty and responsibility to support any positive move that the loksabha and Rajyasabha has passed ...
It’s our duty and responsibility to support any positive move that the loksabha and Rajyasabha has passed .
Featured

CAB Amendment Bill

I was thinking where to start first,
from article 370 or 35A or Ayodhya verdict.

Lets start with CAB 2019,
Now the picture is clear that this is totally pre planned attack by mob on Indian citizen and on there properties too.
These few people who belongs to few party and community trying to provoke Hindu vs Muslim behind CAA 2019.
There has been a misinformation campaign. “The Citizenship (Amendment) Act or CAA does not affect any Indian citizen, including Muslim citizens,” on the controversial legislation that has led to violent protests in almost every parts of the country, including the national capital.This is not going to affect any citizen of India in any way , The Indian citizens enjoy fundamental rights given by the constitution of India including Muslim citizens .

CAA 2019 for , Hindu, Sikh, Jain, Buddhist, Parasi and Christian foreigners who have migrate from Pakistan, Bangladesh and Afghanistan into India up to 31.12.2014, on account of persecution faced by them due to their religion they are not enjoying their freedom due to minority .

What the fuck people doing on road pelting stone on police official , wake up man, there is nothing wrong in nation interest, people are lemming. Few bloody asshole saying they lost their freedom ,not able to study , not able to go to college , Internet service is down. Ask yourself What is the reason? Why you are taking law & order in your hole. Police is not designed for Dance on street . They had not received Lathi and Gun to Fire on their wedding they will perform their duty.

Reminiscences of the Nehru Age

M.O.Mathai, who had served as Nehru’s special assistant (Personal Assistant – PA) for almost a decade & a half (between 1946 & 1959), it gives the reader some first hand information on several anecdotes, facts & historical references. It is an engaging read in which Mathai effortlessly takes the reader back in time and narrates his encounters & experiences with different leaders in a very blunt & unforgiving style. Neatly divided into isolated chapters, he speaks out his mind (personal opinions along with anecdotes & some facts) about each leader per chapter.

chapter on Mahatma Gandhi:

On Lal Bahadur Shastri:

On Sardar Patel:

Nehru is pretty much evident throughout the book but at the same time, he is not hesitant to talk about some intimate matters like Nehru’s platonic love with Edwina, affairs with Sarojini Naidu’s daughter( Padmaja Naidu ), Mridula Sarabhai and others.it helps the reader understand the psychological impact of such affairs on Nehru which in turn would have affected his decisions the national front.

Chapter 29 “She” was withdrawn by the author in the last minute due to the contents being “intensely personal”.

 Nehru’s affair with Padmaja Naidu can actually be related to Gandhi family dynasty politics. Although Nehru had promised his wife Kamala that he will do everything possible to stop Indira from marrying Feroze (Nehru was also against her marrying Feroze), Indira was aware of Nehru’s affair with Padmaja and hence cleverly blackmailed Nehru into agreeing to her marriage with Feroze who was renamed Feroze Gandhi which triggered the the tryst with dynasty.

भोले की नगरी काशी

हर हर महादेव 

इन थोड़े से शब्दों में काशी को परिभाषित नहीं किया जा सकता , परन्तु  बनारस की एक झलक प्रस्तुत करने की मैंने अपनी नाकाम कोशिस है, तो  चलिए —

बनारस ५००० वर्ष से भी पुरानी  नगरी, विश्व के सबसे प्राचीन शहरों में एक और अलौकिक शहर बनारस का वृतांत एक बनारसी से अच्छा कौन कर सकता है , जो थोड़ी जानकारी मुझे ज्ञात है वो मै वर्णित करने की कोशिस करता हु, कोई त्रुटि हो तो क्षमा कीजियेगा,और नहीं नहीं किये तो का उखाड़ लेंगे , ये जिन्दा शहर जो बनारस  है , यहां सब काम  लौ….. ड़े से होता है ,और भोसड़ी  के तो अभिवादन है।  लगभग २४ हज़ार से भी ज्यादा मंदिरो  का शहर है बनारस।

बनारस शहर नहीं घर है , अपनापन कूट कूट के भरा है। आत्मा की शांति और शुद्धि भी अगर कही  है तो वो बनारस में ही है.

अवीमुक्ता जमीन के नाम भी जाना जाता है जिसका अर्थ जमीन जो कभी शिव से रहित नहीं है।

रुद्रवास भूमि जहां रुद्रा शिव का एक अभिव्यक्ति रहता है ,

यह वह शहर है जहां भगवान बुद्ध ने अपने ज्ञान के बाद अपना पहला समारोह उपदेश दिया था।

वर्तमान में, इसे सारनाथ के नाम से जाना जाता है।

वाराणसी नाम वरुणा और असि असी नदियों के नाम से लिया गया “वाराणसी” नाम है ,जो इस शहर में यहां संगम है।

वाराणसी को महाशमशान के शहर के नाम से भी जानते है क्युकी यहां चिताये कभी बुझती नहीं है।

 

भारत की सांस्कृतिक राजधानी  के बारे में आपको बताते है  बनारस की प्रसिद्धि किन  किन वजहों से है —

 १ – रामनगर पांडव रोड पर स्थित 8 वीं शताब्दी दुर्गा मंदिर, पास के पेड़ों में रहने वाले सैकड़ों बंदरों का घर है।

२- एक और लोकप्रिय मंदिर संकोमोचन मंदिर है, जो सिमियन-देव हनुमान को समर्पित है।

३- वाराणसी का भारत माता मंदिर शायद भारत का एकमात्र मंदिर है जो ‘मदर इंडिया’ को समर्पित है। 1936 में महात्मा गांधी द्वारा उद्घाटन किया गया, इसका संगमरमर में नक्काशीदार भारत का एक बड़ा राहत मानचित्र है।

४-पूजा के अन्य महत्वपूर्ण स्थानों में भगवान गणेश का साक्षी विनायक मंदिर, काल भैरव मंदिर, नेपाली मंदिर, नेपाल के राजा द्वारा नेपाली शैली में ललिता घाट पर बनाया गया, पंचगंगा घाट के पास बिंदू माधव मंदिर और ताल्लंग स्वामी मठ

५- एक और नया मंदिर 1964 में भगवान राम के सम्मान में तुलसी मानस मंदिर दुर्गाकुंड नामक स्थान पर बनाया गया था, जहां तुलसीदास ने रामायण के महाकाव्य के सर्वव्यापी संस्करण रामचरितमानों को बनाया था। इस मंदिर की दीवारें भगवान राम के शोषण को दर्शाते हुए दृश्यों और छंदों को सजाती हैं।इसके अलावा

६-काशी विश्वनाथ मंदिर, वाराणसी में अन्य प्रसिद्ध मंदिर हैं। भगवान शिव को समर्पित प्रसिद्ध काशी विश्वनाथ मंदिर में एक लिंगम-शिव का भौतिक प्रतीक है जो महान महाकाव्य के समय वापस जाता है। स्कंद पुराण ने वाराणसी के इस मंदिर को शिव के निवास के रूप में उल्लेख किया है, और इसने मुस्लिम शासकों द्वारा विभिन्न हमलों के हमले को रोक दिया है।

यह दुनिया के सबसे पवित्र शहर के लिए जाना जाता है जहां लाखों आगंतुक गंगा नदी में पवित्र स्नान करने के लिए जाते हैं।

ऐसा माना जाता है की काशी भगवान शिव और देवी पार्वती का घर था और प्रचलित मत है कि यदि मृत्यु के बाद यहां व्यक्ति का दाह संस्कार किया गया हो तो वह मोक्ष प्राप्त कर लेगा। सुप्रसिद्ध हरिश्चंद घाट और माणिकर्णिका घाट हैं जहां दैनिक कई हज़ार मृत शरीर को दफनाया जाता है।

मकर संक्राति शिवरात्रि और होली बनारस के प्रमुख त्योहार है. मकर संक्रांति और महा शिवरात्रि के अवसर पर लाखों तीर्थयात्री अपने पापों को धोने के लिए दुनिया भर से आते हैं, गंगा जी में स्नान करके भगवान् की उपासना करते है।

दूसरी तरफ, प्राचीन काल से आज तक एक धार्मिक शहर होने के अलावा यह प्रमुख शिक्षा और सांस्कृतिक केंद्र है। शहर में बनारस हिंदू विश्वविद्यालय कई देशों के छात्रों के लिए शिक्षा का मुख्य स्रोत है।

संस्कृत की शिक्षा बनारस की प्रमुख शिक्षा हुवा करती थी , आज भी विदेशी मेहमान बनारस में कई वर्षो तक रहकर संस्कृत का अध्ययन कर रहे है।

काशी योग साधना और संस्कृत विद्या का ज्ञान केंद्र रहा है ,यह वह शहर है जहां आयुर्वेद और योग प्राचीन के लिए प्रमुख स्थान ले लिया गया था.

हजारो साल पहले से बनारस व्यापार और वाणिज्य का प्रमुख केंद्र रहा है ,

यहां हिंदी के विश्वप्रसिद्ध लेखक मुंशी प्रेम चंद का भी घर है जिसने हिंदी साहित्य में एक महान नाम अर्जित किया। महान कवि कबीर दास, और संत रवि दास जी जैसे महान विभूतिओं से भरी हुइ नगरी का नाम काशी है। वाराणसी ने सभी सांस्कृतिक गतिविधियों को विकसित करने के लिए सही मंच प्रदान किया है।

यह लिखते हुवे मेरे ह्रदय में जो भाव है वो मै यहाँ परिभासित करने में असमर्थ हूँ।

बनारस बुनकरी और हथकरघा उद्योग में सबसे आगे रहा है.

नरेंद्र मोदी जी जो २०१४ से भारत के प्रधानमंत्री है , उनका संसदीय क्षेत्र काशी ही है , तो उन्होंने वाराणसी में व्यापार और वाण्जिय के प्रोत्साहन के लिए अनेको कदम उठाये है।

सारनाथ: बौद्ध स्थल

“Banaras is older than history, older than tradition, older even than legend and looks twice as old as all of them put together”- Mark Twain

और BHU बनारस हिन्दू यूनिवर्सिटी कैसे भूल गए , यहां  का पिया मिलम चौराहा और मधुबन पार्क तो इश्क़ फरमाने के लिए प्रसिद्द है।

यह  वर्ष २०१५  में भारत में नंबर एक विश्वविद्यालय था, वैज्ञानिक आइंस्टीन अमेरिका महान वैज्ञानिक अल्बर्ट आइंस्टाइन अपने देशवापसजाने से पहले अपने प्रारंभिक दिनों में यहां पढ़ाना चाहता था ,उन्होंने पंडित मालवीय जी को एक पत्र भी लिखा लेकिन किसी भी तरह से उन्हें समय पर यह नहीं मिला। भौतिक विज्ञानं के महान ज्ञानी नील्स बोहर ने 1962 में भौतिकी विभाग में अतिथि व्याख्यान लिया। भारत के स्वतंत्रता संघर्ष में भारत छोड़ो आंदोलन और नागरिक अवज्ञा आंदोलन को बीएचयू के छात्रों द्वारा भारी समर्थन दिया गया था और कक्षाएं इन दिनों के दौरान बंद थीं। अब आप बीएचयू के आसपास हवा में राजनीति के पीछे कारण जानते हैं।

 बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय परिसर

अब आते है काशी के कोतवाल  के बारे में तो ऐसी प्रसिद्धि और मत है  कि उनकी अनुमति के बिना कोई भी काशी (वाराणसी) में नहीं रह सकता है।

बनारस में अपना कार्यभार सँभालने से अहले कमिश्नर ,डीएम,  आईजी या कोई भी अधिकारी हो, सबसे पहले कालभैरव मंदिर जाते है , क्योकि वह काशी के संरक्षक है।

काशी के कोतवाल भगवान कालभैरव मृत्यु के प्रतिक भगवान शिव का भयानक रूप है।

काशी में ऐसी कई चीजें हैं जो आश्चर्यजनक है पृथ्वी पर सबसे पुराना निवास स्थान, भारत की आध्यात्मिक राजधानी,विश्व का सबसे का पवित्र शहर, ज्ञान और सीखने का शहर ..और सबसे अच्छी चीज़ यहां की संस्कृति है , एक ऐसी संस्कृति जो लोगो को आपस में प्यार से जोड़े रहती है , यहां हर काम भाईचारे और आपसी सद्भाव से होता है ,

वाराणसी में अपना कदम रखते ही आप स्थानीय संस्कृति से प्रभावित होंगे और एक चीज़ है हो आप जीवनपर्यन्त नहीं भूलेंगे वो है घाट पर बिताये गए पल ,चाहे सुबह हो या शाम, सुबह – ए – बनारस तो सुप्रसिद्ध है परन्तु शाम को मनमोहक आरती हर किसी का दिल जीत लेती है.

आमतौर पर जब भी मै बनारस जाता हू , अपनी शाम गंगा किनारे ही गुजारता हू , मुझे नहीं पता कि मुझे वहां इतनी शांति क्यों महसूस होती है , ये मेरा कुछ अनुभव है जो मैंने आपके साथ साझा किया है।

एक शाम बनारस के नाम 

काशी वह जगह है जहां आप अपने जीवन की सच्चाई को बहुत ही आसानी से पा सकते है।

सुकून के पल 

 

 नंबर वन यारी : छायाचित्र २०१३ की यादो से 

An Independent Life, Journey toward Struggle.

raghavendraWell let me explain in few word ,when I haven’t word to express what’s going inside me, if I feel ignored I choose write my feelings in my notes ~digital notebook 😊 and after that love to post on my wall, its really gives me peace for a while, I honestly don’t know what I want in life, I don’t even know what I want right now, All I know is that it hurts so much inside, and it’s eating me alive,One day there won’t be anything left of me Sometimes, you just need that one person to tell you that you aren’t as bad as you think you are, And this point to be noted , The very worst kind of sadness is the kind that doesn’t have an explanation because It’s hard to answer the question what’s wrong? My Life is just like music of my gallery I enjoy music when I am happy. But I understand the lyrics when I feel sad.I really want to be happy, but there’s something inside me that screams that you don’t deserve it. fuck, I’m not really sad.But late at night when I’m alone, or when I fill pressure , I usually go on the rooftop and I just forget how to feel. I really don’t why. I feel empty I feel completely lost in my own mind. I bottle up my emotions until I burst and in this situation I love to blow a cigarette and lose my feelings anxiety and all pressure .this is my life , kindly ignore grammatical error and also my thought about life.

Enjoy Every moment of your life,live like today is your last day.

Instagram

 Continue reading "An Independent Life, Journey toward Struggle." 

सिगरेट की एक कश और जिंदगी

जमीन पर लेटे लेटे कुछ पढ़ रहा था। परन्तु मन विचलित था , न कुछ और करने का मन हो रहा था और नही पढ़ने में ध्यान लग रहा था , ऐसा जैसे कुछ खो सा गया हो ; सोचा बाहर निकलकर बारामदे में कुछ ठण्डी हवा से ताज़गी महसूस होगी सो उठकर खिड़की खोल दी मैंने । अर्धरात्रि भी गुजर चुकी थी ,निद्रा का कुछ अता पता ही नही था। तकरीबन सुबह के 3 बजे थे, सारा मोहल्ला सो गया था बस कुछ  हमारे जैसे परिंदे जगे थे उनमें से मैं भी एक था । नींद तो अब इस वक़्त आने से रही मुझे,ये दिनचर्या बन चुका था अब तो,सोचा एक कश की तलब मिटा लूं फिर सोने चला जाऊंगा ,एक बार सोने की कोशिश करूँगा शायद नींद भी मुझपर दयाकर के वापस आ जाय,  तुरंत उठकर मैंने किताब मेज पर रख दी और जेब में अपनी महबूबा ( सिगरेट का डिब्बा) खीजने लगा। लेकिन सिगरेट नही मिला, फिर याद आया कि कुछ दिन पहले मैंने आपातकालीन दशा के लिए कही छुपाकर रखी थी, मैं उसकी तलाश करने लगा,किताबो के बीच खोजते खोते कुछ हाथ लगा, खास नहीं था उसमें बस कागज़ थे जिन पर कुछ पुरानी पर्चियां , कुछ खर्चे का बिल, घर से बाहर रहता हूं तो सब हिसाब रखना पड़ता है, तो कुछ खुल्ले पैसे सिक्के की मुद्रा में जो शौक में रखता हूं , सब खोज लिया लेकिन महबूबा नही मिली। मैं ऊपर खोजने लगा विवेकानंद जी की पुस्तक को हटाया – टैगोर को – गांधी को – प्लेटो को भी पर सिगरेट नही मिला । वैसे भी इन किताबों में नशा ज़रूर है पर वो नशा नहीं जो इनको पढ़कर पैदा हुए नशा को सँभालने में सिगरेट देती है । बहुत मशक़्क़त के बाद एक नेपाल की सिगरेट सूर्या  का डब्बा मिला मुझे पर मेरी पसन्द की मार्लबोरो एडवांस नही मिला । पसन्द का कुछ न मिले उस वक़्त जब उसकी तलब हो तो दिमाग़ कोहराम मचा देता है । एक अजीब सा पागलपन और घबराहट को दूर करने के लिए एक कश भी बहुत होता है।

मैं उठकर अपना ट्रॉली बैग में देखने लगा और एक बॉक्स खोल कर उल्टा कर दिया बहुत कुछ गिरा कुछ छोटे छोटे इलेक्ट्रॉनिक, कुछ मेरी बनारस शहर से जुड़ी यादे, सब मिला बस सिगरेट को छोड़कर!

एक सादा खाली पन्ना था(मैंने कभी नाकाम कोशिश की थी तुम्हारे और अपने बारे में लिखने की, कुछ पल जो मैंने खुशियों के साथ गुजारे तुम्हारे साथ) इक याद और इक अधूरा ख़त जो मेरे जेहन के अन्दर था ।

शायद यही इक याद थी, तुम्हारी मेरे पास डिब्बे में बंद पड़ी जिसे खोलते ही फिर वो पुरानी यादें ताजा हो गयी

कुछ लफ्ज़ थे तुम्हारें उसमें मगर आख़िरी फैसला मेरे मन का था–

तुम अगर ये कहना चाहो की

मुझे छोड़ दो या फिर सिगरेट नहीं तो कोई और ढूंढ लेना 

तो मेरा ये जबाब अडिग रहता कि

” और ” का विकल्प नहीं रखता हूँ मै,जिसको पसन्द कर लूं ,उसे छोड़ता भी नहीं मैं , तुमसे बेहतर कोई ‘और’ पा नहीं सकता मैं जिसके साथ खुश रहू ,तुम रहती काश अगर मेरे पास तो ये ‘कश’ भी छूट जाता एक दिन, खैर कोई बात नही अब तुम हो नही, तो जिंदगी एक कश के सहारे चल रही ,

ख़ैर अब ये सब छोड़ो बस  इतना बता दो कोई विकल्प नहीं है मेरे पास दिल और दिमाग दोनों के साथ तुमसे पूछ रहा हूँ —

मार्लबोरो नहीं मिल रही है इसी नेपाली सूर्या सिगरेट में ही खुद को जला लूं आज?

किसी भी के वाल से
—————————————————————-

Happy Father’s Day

Screen Shot 2018-09-26 at 1.28.13 PM.png
हमारे पिता ने हमारे मुँह पर हमारी कभी तारीफ ना की हो,कभी हमे पुरस्कार  ना दिया हो,कभी गले ना लगाया हो.. लेकिन यकीन मानिए हमारी 1 इंच की कामयाबी के लिए 1 किलोमीटर चलने को राजी रहता है वो शक्श है  पिता ,पिता को पता होता है कि ज्यादा अनुशासन लगा के वो अपने बच्चे की चिढ़ का पात्र बन रहा है लेकिन बच्चे के भविष्य की सुरक्षा के आगे ये कीमत बेमानी लगती है,पिता वो इंसान होता है जिसपे कवितायें नहीं लिखीं जातीं,वो आंसू नहीं बहाता, वो हमेशा परिवार के लिए संघर्ष करता रहता है .. वो बस रास्ते में खड़े, विशालकाय पीपल की तरह चुपचाप बस अपनी जिम्मेदारियों का वहन करता है,पिता वह  होता है जो 40 की उमर में ही नये कपड़े,नया फोन,नये जूते, महंगी घड़ी के लिए ये कहके मना कर देता है कि “अब ये सब की मेरी उमर नहीं रही” और वो मन ही मन खुश होता है, कि बच्चों के लिए कुछ पैसे बच गये।
अपनी इच्छाओ को त्यागकर परिश्रम करके जिस बच्चे को वह पढ़ा लिखकर बड़ा करता है वही पुत्र की शादी होने के बाद पिता को घर से निकाल देता है,जिसे वह अपने बुढ़ापे का सहारा समझ बैठे थे वो पुत्र उन्हें अनाथाश्रम में छोड़कर अलग रहने लगता है। क्या इसी दिन को देखने के लिए पिता ने अपने पुत्र की परवरिश करता है, 
ये मुझे सोचने को मजबूर करता है ,की भारतीय संस्कृति ये तो नहीं थी, माता पिता से बड़ा कोई भगवान नही है इस बात को मानिये, उनके चरणों मे चारो धाम स्थित है।।
 
आज  Happy Father’s Day मना रहे है, 
हमारी संस्कृति हमें प्रतिदिन प्यार कराना सिखाती है,इसलिए हम फादर्स डे की इज़्ज़त करते है, लेकिन प्यार भी हर रोज करते है। 
Source- Unknown

A truly rich man is one whose children run into his arms when his hands are empty. Unknown Author

संघे शक्ति कलियुगे

आरम्भ है प्रचंड, बोले मस्तकों के झुंड, आज ज़ंग की घडी की तुम गुहार दो,
आरम्भ है प्रचंड, बोले मस्तकों के झुंड, आज ज़ंग की घडी की तुम गुहार दो,
आन बान शान, याकि जान का हो दान, आज एक धनुष के बाण पे उतार दो!
आरम्भ है प्रचंड, बोले मस्तकों के झुंड, आज ज़ंग की घडी की तुम गुहार दो,

आन बान शान, याकि जान का हो दान, आज एक धनुष के बाण पे उतार दो!
आरम्भ है प्रचंड……..
मन करे सो प्राण दे, जो मन करे सो प्राण ले, वही तो एक सर्वशक्तिमान है, -2

कृष्ण की पुकार है, ये भागवत का सार है कि युद्ध ही तो वीर का प्रमाण है,

कौरवों की भीड़ हो या पांडवों का नीड़ हो जो लड़ सका है वो ही तो महान है!

जीत की हवस नहीं, किसी पे कोई वश नहीं, क्या ज़िन्दगी है, ठोकरों पे वार दो,

मौत अंत है नहीं, तो मौत से भी क्यों डरें, ये जाके आसमान में दहाड़ दो!
आरम्भ है प्रचंड, बोले मस्तकों के झुंड, आज ज़ंग की घडी की तुम गुहार दो,

आन बान शान, याकि जान का हो दान, आज एक धनुष के बाण पे उतार दो!

वो दया का भाव, याकि शौर्य का चुनाव, याकि हार का ये घाव तुम ये सोच लो, -2

याकि पूरे भाल पे जला रहे विजय का लाल, लाल यह गुलाल तुम ये सोच लो,

रंग केसरी हो या, मृदंग केसरी हो याकि केसरी हो ताल तुम ये सोच लो!

जिस कवि की कल्पना में ज़िन्दगी हो प्रेम गीत, उस कवि को आज तुम नकार दो,

भीगती मसों में आज, फूलती रगों में आज, आग की लपट का तुम बघार दो!

आरम्भ है प्रचंड, बोले मस्तकों के झुंड, आज ज़ंग की घडी की तुम गुहार दो,
आन बान शान, याकि जान का हो दान, आज एक धनुष के बाण पे उतार दो!
आरम्भ है प्रचंड…

आरम्भ है प्रचंड…

आरम्भ है प्रचंड..

उत्तर प्रदेश का चुनाव 

तूने ऊँगली उठायी तो …….हंगामा हो गया ।


शुभ प्रभात मित्रों, वंदे मातरम !

रोज ८ बजे उठता था। आज नींद ही नहीं आयी 

लगता है आप सभी राष्ट्रवादी मित्रों ने इतनी मेहनत की है, 

यू पी के राष्ट्रवादियों ने ऊँगली उठाई है (EVM का बटन दबाया है, फेसबुक पर माहौल बनाया है) ,

कि यू पी में बीजेपी की सरकार बनना तय है। 

इसीलिए मैं निश्चिन्त लंबी तान के गहरी नींद नहीं सो पाया 

     जिस प्रकार सीमाओं पर हमारे सैनिक 24 घण्टे सतर्क, सशस्त्र हो सीमाओं की रक्षा करते रहते है, अपनी आँखें खुली रखते है

उसी प्रकार आप सभी राष्ट्रवादी मित्र सोशल मीडिया में जागते रहने और जगाते रहने के इस पावन कर्तव्य को निभा रहे हैं। 

तो भला हम जैसे युवा निश्चिन्त होकर कैसे सकते हैं।राष्ट्रवादी मित्रों के जज्बे को शत शत नमन।

तूने ऊँगली उठाई तो ……

हंगामा हो गया ।

वंदे मातरम।
उत्तर प्रदेश में कमल खिलेगा 

Love In Delhi. Dilli ka Pyaar

प्यार शब्द ही काफ़ी है । प्यार को परिभाषित करना बहुत ही जटिल है । पहले के समय में जो प्यार का रूप था अब वैसा कुछ नहीं है ।

३ साल पहले जब मैं दिल्ली आया था मेरे एक दोस्त के साथ ऐसा वाक़या हुआ जो याद करके आज भी मैं हसता हु और शर्म भी आती है

बात कुछ ऐसी थी दोस्त के पिताजी दिल्ली के सेंट्रल पार्क में लगे तिरंगे को देखकर देशभक्ति की भावना से पार्क में जाने की इच्छा व्यक्त किए अब दोस्त मना भी नहीं कर सकता था 🤣🤣पापा के साथ क़दम पार्क में बढ़े और बेचारे का दिल सहना ja rha था क्यूँकि हम पहले भी प्रेमी जोड़ों की हरकतों को देख चुके थे । उस दिन पिताजी जब वापस घर आए तो शर्म के मारे खुलकर बोल नहि पाए बस इतना बोले की बेटा 

क्या हो गया है इस देश के युवाओं को 

“प्यार करना है करिए लेकिन थोड़ा शर्म करिए ” ऐसी हरकतें ना करिए 

प्यार की इज़्ज़त कीजिए ।